In the Van Gujjar community, the woman mostly does the household work and looks after their children. The Purdah system is not followed amongst them.

Van Gujjars: A Rich Cultural Legacy

The Van Gujjars are a semi-nomadic, Islamic community found in Northern India (primarily in Uttarakhand), parts of Pakistan, and Afghanistan.   It’s a sub-community within the larger Gujjar community that traces its origins to the Gurjara kingdom in West India from where they migrated to different parts of the sub-continent in 570 CE.        The Muslim Gujjars, which included the Van Gujjars went further north, settling in the Himalayan states.

Etymologically, the name ‘Van Gujjar’ is a combination of Van which means forest, and Gujjar, which is a sub-caste in India. The name loosely translates to ‘Forest Pastoral Community. Speaking a language called Gojri—which is a dialect of the Dogri language; the community has a rich culture and unique traditional knowledge systems that need to  be preserved and encouraged.

वन गुज्जर : एक समृद्ध सांस्कृतिक विरासत

उत्तरी भारत (मुख्य रूप से उत्तराखंड), कुछ पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान के हिस्सों में पाए जाने वाले वन गुज्जर एक अर्ध-चलवासी इस्लामी समुदाय है। यह विशाल गुज्जर समुदाय का एक उप – समुदाय है, जिनके मूल पश्चिमी भारत के गुर्जरा साम्राज्य में मिलते है और वहीं से उन्होंने सन् ५७० सीई में उपमहाद्वीप के विभिन्न भागों में गमन किया। मुस्लिम गुज्जर जिनमें वन गुज्जर समुदाय भी अंतर्गत है वह उत्तर की ओर हिमालयी राज्यों में जाकर बस गए। 

 

मूल रूप से ‘वन गुज्जर’ नाम, दो शब्दों का मिश्रण है; वन जिसका अर्थ जंगल होता है और गुज्जर जो भारत की एक उप-जातियों में से है। इस शब्द का स्पष्ट अर्थ ‘वन पशुचारी समुदाय ‘ होता है I यह समुदाय गोजरी भाषा बोलते है ; जो डोगरी नामक भाषा की उप-बोली है, और पंजाबी के साथ मिश्रित है। समुदाय के पास समृद्ध संस्कृति और अद्वितीय पारंपरिक ज्ञान प्रणालियां हैं ; जिसे संरक्षित और प्रोत्साहित करने की आवश्यकता है।

 

 

 

 

Read More